new hindi songs

Free Curricula – Long List

Wonder in the Woods

I stumbled upon this thread at the Well Trained Mind from this thread on the Five in a Row boards about homeschooling on a shoe-string.  Hopefully all the links will work.  Please visit the original threads for more ideas.

WHOLE CURRICULUM:
Ambleside OnlineAmbleside Online
Old Fashioned EducationAn Old-Fashioned Education
(Preschool and some elementary)Brightly Beaming Resources
Puritan Homeschool Curriculum. Contains many subjects but is religious. THE PURITANS’ HOME SCHOOL CURRICULUM
Core KnowledgeCore Knowledge Lesson Plans
Tanglewood EducationTanglewood Education

Math:
Ray’s ArithmeticRay’s Arithmetic – Google Book Search
CSMP Materials. Grades k-6. CSMP Materials
Centre for Innovation (UK)Centre for Innovation in Mathematics Teaching – Mathematics Enhancement Programme
Living Math History(Lesson Plans on Right side of Page) C1 Outline and Booklists
MEP Math  Full Curriculum MEP Math

Math Drill:
(Online) Math MagicianOswego City School District Math Games
Printable Math SheetsFree Math…

View original post 1,223 और  शब्द

Advertisements
मानक
geet, kavita, new hindi songs, new songs, raag, rag, ragani, ragini

मैं क्यूँ बनूँ एक और निर्भया?

मैं क्यूँ बनूँ एक और निर्भया?

सारे धरने, सरकारी वादे और कानून के बावजूद हर रोज एक और निर्भया 
अब बहुत हो गया, इंसानियत से भरोसा खो गया, पानी सर से गुज़र गया 
अब आप ही बताइये, मैं क्यूँ बनूँ एक और निर्भया?

इंसानी भेष में दरिंदे, विकृत मानसिकता के परिंदे, हैं मौके की तलाश में 
यौन शोषण के कारिन्दे, वासना के अन्धे, लिप्त हैं विभत्स्ता और लाश में 
अपनी आज़ादी, अपनी सुरक्षा का, मै खुद ही बनूँगी जरिया 
तब आप ही बताइये, मैं क्यूँ बनूँ एक और निर्भया?

मेरी तरफ लपकते भेड़ियों को, अब मैं खुद ही धुल चटाउँगी
आत्मरक्षा का ले प्रशिक्षण, मैं खुद अपनी लाज बचाउंगी 
किसी की बेटी, माँ बहिन किसी की, वधू किसी की और भार्या 
फिर आप ही बताइये, मैं क्यूँ बनूँ एक और निर्भया?

इन शरीर के भूखे भेड़ियों को कोई पाठ पढ़ाये नैतिकता का 
अबला नहीं मैं सबला हूँ, ले सबक नारी शक्ति और एकता का
ना हम भोग्या, ना हम कलियाँ, ना तितली ना परिया 
निर्णय आप ही लीजिये, मैं क्यूँ बनूँ एक और निर्भया? 
+Nirbhaya Jyoti Trust #Nirbhaya
रचयिता : आनन्द कवि आनन्द कॉपीराइट © 2015-16
Email : anandkavianand@gmail.com

MyFreeCopyright.com Registered & Protected
Published Songs and Poems or any other article on this Blog is sole property of the Author. You may share these with your friends or on your social network. However, do not use these articles for COMMERCIAL purpose without prior permission of the Author. You may like to contact at Email : anandkavianand@gmail.com

via Blogger http://bit.ly/1KEvNNp

मानक
geet, kavita, new hindi songs, new songs, raag, rag, ragani, ragini

दीवाना सी तेरी सूरत – ब्रेथलेस

दीवाना सी तेरी सूरत – ब्रेथलेस

दीवाना सी, तेरी सूरत, कि लगती हो, प्यार की मूरत,

तेरी सूरत, पे अपनी जाँ, छिड़कता हूँ, ओ जान ए जाँ, ओ जान ए जाँ, 
हो जान ए जाँ

ज़ुल्फ़ों के साए में, हाय ज़िंदगी तमाम हो
नशीले लबों पे तेरे, बस मेरा ही नाम हो, बस मेरा ही नाम हो,
तेरा कज़रा, ये गज़रा, बनाता है, मुझे भँवरा,
कि बिखरा के, लट चलती हो, मुस्का के, निकलती हो,
इस मुस्का, पे अपनी जाँ, छिड़कता हूँ, ओ जान ए जाँ, ओ जान ए जाँ, 
हो जान ए जाँ

क्यों ना तेरे माथे की, बन जाऊँ बिंदिया
समां जाऊं अँखियों में, बनके मैं निंदिया, हाँ बनके मैं निंदिया,
खुशबु तेरी, साँसों में, जादू तेरी, आँखों में,
इन आँखों, का हर  सपना, लगता है मेरा अपना,
इस अपनेपन, पे अपनी जाँ, छिड़कता हूँ, ओ जान ए जाँ, ओ जान ए जाँ, 
हो जान ए जाँ

दीवाना सी, तेरी सूरत, कि लगती हो, प्यार की मूरत,
तेरी सूरत, पे अपनी जाँ, छिड़कता हूँ, ओ जान ए जाँ, ओ जान ए जाँ, 
हो जान ए जाँ

रचयिता : आनन्द कवि आनन्द कॉपीराइट © 2015-16
Email : 
anandkavianand@gmail.com
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
Description: MyFreeCopyright.com Registered & Protected




Published Songs and Poems or any other article on this Blog is sole property of the Author. You may share these with your friends or on your social network. However, do not use these articles for COMMERCIAL purpose without prior permission of the Author. You may like to contact at Email : anandkavianand@gmail.com

Copyright

via Blogger http://bit.ly/16Xi2Lj

मानक
geet, kavita, new hindi songs, new songs, raag, rag, ragani, ragini

नज़र

नज़र 

नज़र ना  हटाना, नज़र ना  चुराना, 
नज़र ना लगाना कोई मेरे दीवाने को, मेरे दीवाने को 
नज़रों के तीर मारो खींच के 
नज़र नज़रों से मिलालो, नज़र रस्ते में बिच्छालो,
नजार फ़िरालो मेरे आशिक की नज़रों से, आशिक की नज़रों से,
नज़रों के तीर मारो खींच के 
नज़र ना  हटाना, नज़र ना  चुराना, 
नज़र ना लगाना कोई मेरे दीवाने को, मेरे दीवाने को 
नज़रों के तीर मारो खींच के 
नज़रों से रुत बिखराके, नज़रों से नज़र बचाके,
नज़रों से बहकाके, मेरे दिलबर की नज़रों पे, दिलबर की नज़रों पे,
नज़रों के तीर मारो खींच के 
नज़र ना  हटाना, नज़र ना  चुराना, 
नज़र ना लगाना कोई मेरे दीवाने को, मेरे दीवाने को 
नज़रों के तीर मारो खींच के 
 रचयिता : आनन्द कवि आनन्द कॉपीराइट © 2015
Email : anandkavianand@gmail.com
MyFreeCopyright.com Registered & Protected
Published Songs and Poems or any other article on this Blog is sole property of the Author. You may share these with your friends or on your social network. However, do not use these articles for COMMERCIAL purpose without prior permission of the Author. You may like to contact at Email : anandkavianand@gmail.com

via Blogger http://ift.tt/18jLkUQ

मानक
geet, kavita, new hindi songs, new songs, raag, rag, ragani, ragini

मैं शोर मचाउंगी

मैं शोर मचाउंगी 

लड़की  : सुन बलिए, ओए छलिये, मैं जान गई तेरा झूठ,
             चल छड़ बहका ना, तेरे नाल नहियो आना, मत कर जोरम जोर
लड़का  : नहीं ते
लड़की  : ते शोर मचाउंगी, मैं शोर मचाउंगी

लड़की  : मैं जानूँ तेरे फ़साने, झूठे तेरे तराने, तूं मुझपे ना डोरे डाल
             ये अदा तेरी मैं जानूँ, चाल तेरी पहचानूं , जा फँसा किसी को और
लड़का  : क्या कहा 
लड़की  : पुलिस बुलाऊँगी, मैं शोर मचाउंगी

लड़की  : मैं न मानू तेरी बात, तेरी घोड़ी और बारात,ये है तेरा प्रेमजाल   
             पर मैं नहि फँसनी, तेरी ओर नहीं तकनी, दिल ले गया मेरा चोर
लड़का  : मैं हूँ ना 
लड़की  : तुझे तो जेल कराऊँगी , मैं शोर मचाउंगी

लड़की  : तूं झूठा तेरे वादे झूठे, झूठे तेरे सपने, तूं छलिया बेईमान 
             झूठे तेरे कसमें वादे,  झूठे तेरे इरादे, मैं कटी पतंग तूं डोर 
लड़का  : चक दूँ 
लड़की  : मैं तुझे छकाऊंगी, मैं शोर मचाउंगी 

लड़की  : तूं सच्ची साँच बतादे, जो दिल में तेरे जतादे , मत कर मुझे हैरान 
             क्यूँ करता हेराफेरी,  मैं होना चाहूँ तेरी, नहीं और कोई मेरा ठोर 
लड़का  : मैं आऊँ 
लड़की  : हाथ ना आउंगी  मैं शोर मचाउंगी 
रचयिता : आनन्द कवि आनन्द कॉपीराइट © 2015-16
Email : 
anandkavianand@gmail.com





MyFreeCopyright.com Registered & Protected

Published Songs and Poems or any other article on this Blog is sole property of the Author. You may share these with your friends or on your social network. However, do not use these articles for COMMERCIAL purpose without prior permission of the Author. You may like to contact at Email : anandkavianand@gmail.com

via Blogger http://bit.ly/1yuKOJR

मानक
geet, kavita, new hindi songs, new songs, raag, rag, ragani, ragini

एक दूजे से प्यार


एक दूजे से प्यार

तूँ भी मरता, मैं भी मरती एक दूजे पे यार 
तूँ भी करता, मैं भी करती एक दूजे से प्यार 
मेरे भोले साजन तुझको अब तक समझ ना आया 
क्या?
कि मैं करने लगी 
क्या?
प्यार प्यार यार,  एतबार यार 
इकरार यार, इसरार यार 
सारे जग को छोडके मैंने तुझको ही अपनाया 
इस बंजर जमीं पे तुने प्यार का फूल खिलाया 
मेरे भोले साजन तुझको अब तक समझ ना आया 
क्या?
कि मैं करने लगी 
क्या?
प्यार प्यार यार,  एतबार यार 
इकरार यार, इसरार यार 
इस जमीं से ऊपर देखो जितने चाँद सितारे 
उनसे भी सुन्दर लगते हो कितने प्यारे प्यारे 
चुपके चुपके मेरे दिल में कैसे राह बनाया 
मेरे भोले साजन तुझको अब तक समझ ना आया 
क्या?
कि मैं करने लगी 
क्या?
प्यार प्यार यार,  एतबार यार 
इकरार यार, इसरार यार
रचयिता : आनन्द कवि आनन्द कॉपीराइट © 2015
Email : anandkavianand@gmail.com
MyFreeCopyright.com Registered & Protected
Published Songs and Poems or any other article on this Blog is sole property of the Author. You may share these with your friends or on your social network. However, do not use these articles for COMMERCIAL purpose without prior permission of the Author. You may like to contact at Email : anandkavianand@gmail.com
Copyright Published New Hindi Songs and Poems or any other article on this Blog is sole property of the Author. You may share these with your friends or on your social network. However, do not use these articles for COMMERCIAL purpose without prior permission of the Author. Email : anandkavianand@gmail.com Copyright : Anand Kavi Anand © 2015

via Blogger http://ift.tt/1yl773o

मानक
geet, kavita, new hindi songs, new songs, raag

जानम

जानम 

जानम जान ए जानाँ 
हो तेरी बाहों में गुजरे ज़माना
 जानम जान ए जानाँ 
हो तेरी बाहों में गुजरे ज़माना
 तू मेरे मन का मीत है
तू ही मेरे होठों का गीत है 
जीत है ये प्यार की, दुनिया की हार की 
आशिकी मेरे यार की, क्या दुनिया से छिपाना 
जानम जान ए जानाँ 
हो तेरी बाहों में गुजरे ज़माना
 तू ही मेरी अंखियों का नूर है 
तू ही मेरे प्यार का सरूर है 
कोई बात तो जरूर है, इसीलिए दूर है 
क्या प्यार का गरूर है, ज़रा मुझको भी बताना 
जानम जान ए जानाँ 
हो तेरी बाहों में गुजरे ज़माना 
मुझे अपने जानम पे नाज़ है 
 तू ही मेरे प्यार का सरताज है
रूठी हूँ कुच्छ राज़ है, पर मुझको आती लाज है 
सुन्दर मधुर साज़ है, आ मिलके गाएं गाना 
जानम जान ए जानाँ 
हो तेरी बाहों में गुजरे ज़माना

रचयिता : आनन्द कवि आनन्द कॉपीराइट © 2015
Email : anandkavianand@gmail.com
MyFreeCopyright.com Registered & Protected
Published Songs and Poems or any other article on this Blog is sole property of the Author. You may share these with your friends or on your social network. However, do not use these articles for COMMERCIAL purpose without prior permission of the Author. You may like to contact at Email : anandkavianand@gmail.com
Copyright

via Blogger http://ift.tt/18jLkUV

मानक